के.डी. मेडिकल कालेज में हुई महिला रोगियों की गरिमा एवं सम्मान पर चर्चा

  • Mathura News

अपने सम्बोधन और व्यवहार से जीतें मरीजों का दिल : डा. राजेन्द्र कुमार।

श्री प्रकाश शुक्ला

मथुरा 17 अक्टूबर 2020

नवरात्र स्थापना दिवस शनिवार को के.डी. मेडिकल कालेज-हास्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर में उत्तर प्रदेश शासनादेश के अंतर्गत चिकित्सकीय नैतिकता पर एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इस संगोष्ठी में प्रबुद्ध चिकित्सकों द्वारा महिला रोगियों की गरिमा एवं सम्मान पर विस्तार से चर्चा की गई।

संगोष्ठी का शुभारम्भ कालेज के डीन डा. रामकुमार अशोका, चिकित्सा अधीक्षक डा. राजेन्द्र कुमार, शिशु शल्य चिकित्सक श्याम बिहारी शर्मा तथा महिला चिकित्सकों एवं नर्सिंग स्टाफ द्वारा शक्ति-स्वरूपा मां शैलपुत्री के समक्ष दीप प्रज्वलित कर किया गया।

संगोष्ठी को सम्बोधित करते हुए डा. श्याम बिहारी शर्मा ने कहा कि हमारे देश में माता-बहनों का घर-परिवार, समाज में पुरातन काल से विशिष्ट स्थान रहा है। दैवीय रूप में मां दुर्गा और काली को शक्ति का प्रतीक माना गया है। साथ ही लक्ष्मी व सरस्वती माता को हम धन और ज्ञान की प्रतीक के रूप में हमेशा से पूजते आ रहे हैं। महिलाएं हर रूप में त्याग, तपस्या और बलिदान की प्रतिमूर्ति हैं। डा. शर्मा ने कामायनी तथा पौराणिक ग्रंथों के विभिन्न उद्धरणों के माध्यम से सभागार में उपस्थित श्रोताओं को नारी उत्थान तथा उनके सम्मान की बातें समझाईं।

चिकित्सा अधीक्षक डा. राजेन्द्र कुमार ने कविता के माध्यम से नारी शक्ति की अस्मिता को रेखांकित किया। उन्होंने कहा कि मातृदेवो भवः यह सूक्ति भारतीय संस्कृति का परिचय-पत्र है। ऋषि-महर्षियों की तपः पूत साधना से अभिसिंचित इस धरती के जर्रे-जर्रे में गुरु, अतिथि आदि की तरह ही नारी भी देवरूप में प्रतिष्ठित रही हैं। उन्होंने डाक्टर्स तथा नर्सेज का आह्वान किया कि वे अपने आत्मीय सम्बोधन और व्यवहार से मरीजों का दिल जीतें तथा उनका उपचार करें। संगोष्ठी को सम्बोधित करते हुए एनाटोमी विभाग की डा. हरमीत ने महिलाओं की तुलना वृक्ष से की।

संगोष्ठी में सभी चिकित्सकों ने एकमत से स्वीकार किया कि डाक्टर्स का प्रमुख कर्तव्य मरीज का सही उपचार है। हम अपनी संयमित वाणी और अच्छे व्यवहार से मरीज को कम समय में स्वस्थ कर सकते हैं। संगोष्ठी को मेडिसिन विभाग की डा. मंजू पाण्डेय, सर्जन डा. प्रियंका तिवारी, कम्युनिटी मेडिसिन के डा. अमित कुमार, सी.एम.ओ. डा. विजोय कुमार, सर्जरी विभाग के डा. श्रीधाम सूत्रधार, फोरेंसिक मेडिसिन के डा. पवन, फिजियोलाजी के डा. नवीन गौड़, एनाटोमी की डा. हरमीत तथा अंजू शर्मा आदि ने भी सम्बोधित किया।


अब ख़बरें पाएं व्हाट्सप पर
क्लिक करें

ऐप के लिए
क्लिक करें